Quick Links -Cultural Events

योग दिवस पर योगाभ्यास योग का अर्थ जोड़ना है

शासकीय डाॅ. वा.वा. पाटणकर कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय में विश्व योग दिवस पर ‘‘योगाभ्यास’’ के कार्यक्रम आयोजित किए गए।
महाविद्यालय परिसर में प्रातः 7ः00 बजे से आयोजित योगाभ्यास में विद्यार्थियों, शिक्षकों एवं कर्मचारियों ने योग की विभिन्न मुद्राओं एवं प्राणायाम का अभ्यास किया। 
सेक्टर-10 स्थित योगाश्रम के श्री ओ.पी.गुप्ता एवं श्रीमती उर्मिला गुप्ता के सानिध्य में सभी ने सूर्य नमस्कार, विभिन्न योग मुद्राएँ तथा प्राणायाम का अभ्यास किया एवं सीखा। 
श्री गुप्ता ने इस अवसर पर कहा कि योग का अर्थ जोड़ना है जो हमें अपने शरीर से जोड़ता है। यदि हम थोड़ा सा वक्त अपने शरीर के लिए निकाले तो हम बहुत से रोगों से बच सकते है। निरोग-मन निरोग-तन आज की सबसे बड़ी आवश्यकता है। 
श्री गुप्ता ने कमर दर्द, पैर दर्द, डायबिटिज पर विशेष योगाभ्यास सिखाया जिससे शतप्रतिशत लाभ मिलता है। श्रीमती उर्मिला गुप्ता ने ध्यान (मेडिटेशन) का अभ्यास कराया जिससे हमारी एकाग्रता और स्वस्थ्य मन को शक्ति मिलती है। 
महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. सुशील चन्द्र तिवारी ने गुप्ता दंपत्ति का आभार व्यक्त करते हुए उनके बताए महत्वपूर्ण टिप्स को सभी के लिए लाभप्रद बताया। राष्ट्रीय सेवा योजना की कार्यक्रम अधिकारी डाॅ. यशेश्वरी धु्रव एवं डाॅ. सीमा अग्रवाल ने कार्यक्रम का संयोजन किया। 
महाविद्यालय में इस सत्र से योग का भी पिरियड रखे जाने की तैयारी की गई है जिससे विद्यार्थियों को भी योग व ध्यान का प्रशिक्षण मिल सके। 
इसी सत्र से डिप्लोमा इन योगिक साइंस की कक्षाएँ भी प्रारंभ की जा रही है जो पं. सुन्दरलाल शर्मा मुक्त विश्वविद्यालय से संबद्ध होगी।